Skip to main content

Posts

Showing posts from June, 2013

देशधर्म क्या होता है..................

देशधर्म क्या होता है, ये हिन्दू मुस्लिम क्या जाने?
जिसने देहरी पार न की, मौसम की रंगत क्या जाने?
जिनको नींद नहीं मिलती है, भूखी नंगी रातों में,
वो रोटी पेट समझने वाले, स्वप्न हकीकत क्या जाने?
गीदड़ के शागिर्दों की अब, फौज बड़ी चाहे जितनी हो,
...
जूंठे टुकड़ों पर पलने वाले, शेरों की ताकत क्या जाने
उनसे आशा क्या करना जो, माँ पर छुरी चलाते हों,
वो अर्थशास्त्री पैसे वाले, आँसू की कीमत क्या जाने?
ताज पहन कर करें गुलामी, ऐसे मुर्दों की कमी नहीं,
चमचागीरी करने वाले, अपना फर्ज निभाना क्या जाने? Facebook Status of Satya Pal Kataria June 3,2013

हार कर रुकना नहीं ..........................

"हार कर रुकना नहीं ग़र तेरी मंजिल दूर है !
ठोकरें खाकर सम्हलना वक्त का दस्तूर है !

हौसले के सामने तक़दीर भी झुक जायेगी !
तू बदल सकता है क़िस्मत किसलिए मजबूर है !
...
आदमी की चाह हो तो खिलते है पत्थर में फूल !
कौन सी मंजिल है जो इस आदमी से दूर है !!!!! Facebook Status of Satya Pal Kataria June 03,2013

इस नदी की धार में -- दुष्यन्त कुमार

इस नदी की धार में ठंडी हवा आती तो है,
नाव जर्जर ही सही, लहरों से टकराती तो है।
एक चिनगारी कही से ढूँढ लाओ दोस्तों,
इस दिए में तेल से भीगी हुई बाती तो है।
एक खंडहर के हृदय-सी, एक जंगली फूल-सी,
...
आदमी की पीर गूंगी ही सही, गाती तो है।
एक चादर साँझ ने सारे नगर पर डाल दी,
यह अंधेरे की सड़क उस भोर तक जाती तो है।
निर्वचन मैदान में लेटी हुई है जो नदी,
पत्थरों से, ओट में जा-जाके बतियाती तो है।
दुख नहीं कोई कि अब उपलब्धियों के नाम पर,
और कुछ हो या न हो, आकाश-
सी छाती तो है।
- दुष्यन्त कुमार From the Facebook Status of Satya Pal Kataria
June 03,2013