Skip to main content

Positive Attitude by Dr. M.N.Siddiqi

Positive Attitude

ATTITUDE is
· Way of thinking
· Way of talking
· Way of behaving

OSAMA OMAR
(Negative Attitude) (Positive Attitude)

PEACE is a product of POSITIVE ATTITUDE.
VIOLENCE is the result of NEGATIVE ATTITUDE.

We should give a POSITIVE Response,
even in NEGATIVE situations.

UNITED NATIONS proclaimed 1995, the
Year of TOLERANCE-January 1995

INTOLERANCE is the GREATEST CHALLENGE
of the 21st Century-UNESCO

TOLERANCE prevents us from
WASTING our TIME and TALENT on
unnecessary FRICTION

We cannot have anything without paying for it
· TOLERANCE is the price of PEACE.
· INTOLOERANCE causes WAR and VIOLENCE.

A PEACE POLICY always serves as a
“PEACE BOMB”
Which is MIGHTER than the
“VIOLENCE BOMB”

A PEACE BOMB means LIFE.
A VIOLENCE BOMB means DEATH.

A PEACE BOMB Leads to CONSTRUCTION
A VIOLENCE BOMB Leads to DISTRUCTION

The power of PEACE BOMB is based on LOVE.
The power of VIOLENCE BOMB is based on HATRED.

HIROSHIMA and NAGASAKI
were DESTROYED BY ATOM
BOMBS IN 1945

Then JAPAN abandoned VIOLENCE
and ADOPTED peace.
Within 40 Years JAPAN rapidly
became a GEEAT POWER of the World.

1857-India’s FREEDOM STRUGGLE Started (VIOLENCE)
1920-GANDHI took a U turn to “PEACEFUL METHOD”
1947-India Got FRREDOM
1948-What happened to GANDHI (VIOLENCE)

How do we attain PEACE?
· Solve your PROBLEMS without creating PROBLEMS for others
· Satisfy your NEED not your GREED.
· Use PEACEFUL METHODS not VIOLENT

SCIENTIFIC ATTITUDE IS
POSITIVE ATTITUDE

Use SCIENTIFIC METHOD
In DECISION MAKING

SCIENTIFIC METHOD has four Steps
1. Problem
2. Hypotheses
3. Experiment
4. Conclusion

Basic Human Values
1. Truth
2. Love
3. Non-Violence
4. Right Conduct
5. Peace

Methods Developing Human Values
1. Prayers
2. Group Singing
3. Story Telling
4. Group Activities
5. Silent Sitting

If you have SCIENTIFIC ATTITUDE,
you will be
· open minded
· objective decision maker
· critical thinker
· non believer of what someone says to you
u unless you are convinced, what he said is correct
· using scientific methods in decision making
· having peace of mind

Man was born in PEACE
Man must die in PEACE
PEACE is God’s Greatest Blessing for us.

About Dr. M.N.Siddiqi
M.Sc. Ph.D (Florida State)]
Educational Consultant
Former Science Consultant,
Delhi Directorate of Education,
Education Officer MCD,
Principal DIETs (SCERT) Delhi
21st Century Education

Mob 9899314447

CHID CENTERED EDUATION SOCIETY
F9/11, Model Town, Delhi-110009
Tel. 27437698, 42371302, Fax: 2461874
E-mail:
century_21education@rediffmail.com

Popular posts from this blog

भगत सिंह की पसंदीदा शायरी

दिल दे तो इस मिज़ाज़ का परवरदिगार दे
जो ग़म की घड़ी को भी खुशी से गुजार दे

सजाकर मैयते उम्मीद नाकामी के फूलों से
किसी बेदर्द ने रख दी मेरे टूटे हुए दिल में

छेड़ ना ऐ फरिश्ते तू जिक्रे गमें जानांना
क्यूँ याद दिलाते हो भूला हुआ अफ़साना
यह न थी हमारी किस्मत जो विसाले यार होताअगर और जीते रहते यही इन्तेज़ार होता तेरे वादे पर जिऐं हम तो यह जान छूट जानाकि खुशी से मर न जाते अगर ऐतबार होतातेरी नाज़ुकी से जाना कि बंधा था अहदे फ़र्दाकभी तू न तोड़ सकता अगर इस्तेवार होटायह कहाँ की दोस्ती है (कि) बने हैं दोस्त नासेहकोई चारासाज़ होता कोई ग़म गुसार होताकहूं किससे मैं के क्या है शबे ग़म बुरी बला हैमुझे क्या बुरा था मरना, अगर एक बार होता(ग़ालिब)इशरते कत्ल गहे अहले तमन्ना मत पूछइदे-नज्जारा है शमशीर की उरियाँ होनाकी तेरे क़त्ल के बाद उसने ज़फा होनाकि उस ज़ुद पशेमाँ का पशेमां होनाfor more details go to:http://bhagatsinghstudy.blogspot.com/

चुनिंदा शायरी -कंचन

तू रख होंसला वो मंजर भी आएगा।
प्यासे के पास चलकर समंदर भी आएगा।
थक हार कर न रुकना ऐ मंजिल के मुसाफ़िर,
मंजिल भी मिलेगी और मिलने का मज़ा भी आएगा।


जिंदगी की असली उडान अभी बाकी है।
जिंदगी के कई इम्तिहान अभी बाकी है।
अभी तो नापी है मुट्ठी भर  ज़मीन हमने ,
अभी तो सारा आसमान बाकी है।

आंधियों  में भी जैसे कुछ  चिराग़  जला करते हैं।
उतनी ही हिम्मत ऐ होंसला हम भी रखा करते हैं।
मंजिलों , अभी और दूर है हमारी मंजिल ,
चाँद सितारें  तो राहों में मिला करते हैं।

संग्रहकर्ता :
कंचन
बी ए 3.

अज आखां वारिस शाह नू - अमृता प्रीतम

अज आखां वारिस शाह नू कितों कबरां विचो बोल !
ते अज किताब -ऐ -इश्क दा कोई अगला वर्का फोल !

इक रोई सी धी पंजाब दी तू लिख -लिख मारे वेन
अज लखा धीयाँ रोंदिया तैनू वारिस शाह नू कहन

उठ दर्मंदिया दिया दर्दीआ उठ तक अपना पंजाब !
अज बेले लास्सन विछियां ते लहू दी भरी चेनाब !

किसे ने पंजा पानीय विच दीत्ती ज़हिर रला !
ते उन्ह्ना पनिया ने धरत उन दित्ता पानी ला !


जित्थे वजदी फूक प्यार दी वे ओह वन्झ्ली गई गाछ
रांझे दे सब वीर अज भूल गए उसदी जाच

धरती ते लहू वसिया , क़ब्रण पयियाँ चोण
प्रीत दियां शाहज़ादीआन् अज विच म्जारान्न रोण

अज सब ‘कैदों ’ बन गए , हुस्न इश्क दे चोर
अज किथों ल्यायिये लब्भ के वारिस शाह इक होर

aaj आखां वारिस शाह नून कित्तों कबरां विचो बोल !
ते अज किताब -ऐ -इश्क दा कोई अगला वर्का फोल !

Cited From:http://www.folkpunjab.com/amrita-pritam/aj-akhan-waris-shah-noon/
Date:11-4-2008